Friday, December 14, 2018
सर्द हवाओं ने दस्तक दे दी है, गर्म कपड़े , रजाई, कम्बल सब निकल गए हैं | तो कम्बल में चाय की चुस्कियों के साथ किताबें हो तो क्या बात है तो फटाफट चेकलिस्ट कीजिये Best Books To Read...
     By Ayush SinhaThe word 'love' is not love, nor can any of its definitions be love. The problem with our minds is that they get too attached to words, and then try to find out their meanings,...
थोडा लेट हूँ, लेकिन लिखने का कोई सही वक़्त नहीं होता है| पिछले दिनों 8 मार्च को अन्तरराष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया |  सैकड़ों कार्यक्रम हुए, कुछ एक महिलाएं सम्मानित भी हुयी | कुछ ने अपने मुश्किल दौर को...
source“जिंदगी और मौत ऊपर वाले के हाथ में होती है |”“दुनिया एक रंग मंच है, हम एस रंग मंच के कठपुतली है” “तुम क्या लेकर आये थे, क्या लेकर जाओगे?”इस तरह के डायलोग हमने बहुत देखे और सुने है...
     By Ayush SinhaWe humans start objectifying everything in the world, no matter whether it is happiness or God, as if there is nothing other than that which can be perceived by our senses, and this ignorance seems...
By Ayush SinhaThe problem with most of us is that we cannot get ourselves detached from what hurts us the most. Situations, people, places, and others' words get stuck to our minds, and we become helpless later on. They...
सैय्यद अहमद मुज्तबा “वामिक जौनपुरी" 23 अक्टूबर 1909 को एतिहासिक शहर जौनपुर से लगभग आठ किमी दूर कजगांव में स्थित लाल कोठी में एक बड़े जमीदार घराने में एक आला अफसर के बेटे के रूप में पैदा हुए |...
बहुत मुश्किल है ये बताना की हिंदी साहित्य आज कहाँ खड़ा है! एक और जहाँ अंग्रेजी आम जीवन में घुल गया है वही आज अमीरों को हिंदी बोलने में भी शर्म आती है| फ़िलहाल हम आज करते हैं, भीष्म साहनी...
कहते हैं इश्क़ में, जलाते है अंगारें,एक फूंक नाकाफी, दूर हैं सितारे|
पियूष मिश्र हिंदी साहित्य और सिनेमा के अद्वितीय महारथी हैं |

Recent Posts